×

कम जोखिम में ज्यादा फायदा पाने का आसान तरीका है ऑप्शन ट्रेडिंग से निवेश, ले सकते हैं बीमा

यूटिलिटी डेस्क. हेजिंग की सुविधा पाते हुए अगर आप मार्केट में इनवेस्टमेंट करना चाहते हैं तो फ्यूचर ट्रेडिंग के मुकाबले ऑप्शन ट्रेडिंग सही चुनाव होगा। ऑप्शन में ट्रेड करने पर आपको शेयर का पूरा मूल्य दिए बिना शेयर के मूल्य से लाभ उठाने का मौका मिलता है। ऑप्शन में ट्रेड करने पर आप पूर्ण रूप से शेयर खरीदने के लिए आवश्यक पैसों की तुलना में बेहद कम पैसों से स्टॉक के शेयर पर सीमित नियंत्रण पा सकते हैं।

पुट और कॉल ऑप्शन का इस्तेमाल कहां होता है?

कॉल के खरीदार को एक तय तरीख और निश्चित मूल्य पर अंडरलाइंग स्टॉक खरीदने का अधिकार मिलता है.

investment

पुट में खरीदार को शेयरों को बेचने का अधिकार मिलता है. कॉल बेचने वाले विक्रेता को खरीदार से प्रीमियम मिलता है.

2. कॉल और पुट ऑप्शन क्या हैं?
कॉल के खरीदार को एक तय तरीख और निश्चित मूल्य पर अंडरलाइंग (जिनकी कीमतों के घटने बढ़ने पर कॉल पर असर होगा) स्टॉक खरीदने का अधिकार मिलता है.

यह प्रीमियम चुकाकर खरीदे जाते हैं. यह कुल कीमत का एक हिस्सा होता है. इसी तरह पुट में खरीदार को शेयरों को बेचने का अधिकार मिलता है. कॉल बेचने वाले विक्रेता को खरीदार से प्रीमियम मिलता है. इसे कॉन्ट्रैक्ट के मूल्य पर खरीदार को शेयर देने होते हैं. इसी प्रकार पुट विक्रेता को शेयरों को बेचना होता है.

3. वास्तव में ये कैसे काम करते हैं?
मान लेते हैं कि 21 दिसंबर को ट्रेडर निफ्टी की 10,800 की एक कॉल खरीदता है. इसकी मियाद 27 दिसंबर को खत्म होनी है. मान लीजिए कि कॉल के हर एक शेयर की कीमत 62 रुपये है.

एक कॉन्ट्रैक्ट में 75 शेयर होते हैं. मान लेते हैं कि 27 दिसंबर को निफ्टी 10,900 रुपये पर बंद होता है. इस तरह 10,800 की कॉल में 100 रुपये को 'इन द मनी' कहा जाएगा. इसमें कॉल बेचने वाला ट्रेडर को 100 रुपये के अनुपात में भुगतान करेगा. यानी ट्रेडर को 62 रुपये के हर शेयर पर 38 रुपये का फायदा होगा. यह कुल निवेश पर रिटर्न का 61 फीसदी है.

अब मान लेते हैं कि निफ्टी 10,800 की बजाय 10,700 पर बंद होता है. इस मामले में 10,800 रुपये की कॉल में 100 रुपये को 'आउट ऑफ द मनी' कहेंगे. इसमें कॉल खरीदने वाला बिक्री करने वाले के हाथ पूरे के पूरे प्रीमियम (62 रुपये) की रकम गंवा देगा.

यही बात कॉल ऑप्शन को राइट करना पुट के लिए भी लागू होती है. बस अंतर यह है कि इसमें निफ्टी के गिरने पर खरीदार को फायदा होगा. वहीं, निफ्टी के बढ़ने पर विक्रेता प्रीमियम को रख लेगा.

4. फ्यूचर से यह कैसे अलग है?
उहादरण में आपने देखा कि खरीदार का नुकसान दिए गए प्रीमियम तक सीमित होता है. लेकिन, कॉल और पुट के विक्रेता का नुकसान असीमित हो सकता है. व्यावहारिक रूप से कॉल और पुट के खरीदार को असीमित फायदा हो सकता है. फ्यूचर के मामले में खरीदार या विक्रेता के नफे-नुकसान की सीमा नहीं होती है.

5. ऑप्शन के प्रकार क्या हैं?
ऑप्शन के दो प्रकार है. अमेरिकी और यूरोपीय. अमेरिकी स्टाइल में कॉन्ट्रैक्ट की अवधि के दौरान कभी भी ऑप्शन को खरीदा-बेचा जा सकता है. वहीं, यूरोपीय स्टाइल में केवल कॉन्ट्रैक्ट की मैच्योरिटी पर ही ऐसा किया जा सकता है. इसमें कॉन्ट्रैक्ट के अंतिम दिन सौदा अपने आप कट जाता है.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

कॉल ऑप्शन- अर्थ, प्रकार और प्राइस इन्फ्लुएंसर्स

Long Call Option Trading

Elearnmarkets (ELM) is a complete financial market portal where the market experts have taken the onus to spread financial education. ELM constantly experiments with new education methodologies and technologies to make financial education effective, affordable and accessible to all. You can connect with us on Twitter @elearnmarkets.

Related Posts

Why Options Trading a कॉल ऑप्शन को राइट करना must-know skill for earning money from markets?

3 Best Volatility Trading Strategies

A Complete Guide on Options Trading

Binary Options Trading

Understanding Binary Options Trading

Leave a Reply Cancel reply

Follow Us

Download App

Register on Elearnmarkets

Continue your financial learning by creating your own account on Elearnmarkets.com

Get Articles On Email

Categories

  • Basic Finance
  • Derivatives
  • Financial Planning
  • Fundamental Analysis
  • Technical Analysis
  • Marketshala
  • Miscellaneous

© 2022 Elearnmarkets . All Rights Reserved

Get Elearnmarkets App

© 2020 Elearnmarkets All Rights Reserved

×

Contractionary Policy- कॉन्ट्रैक्शनरी पॉलिसी

क्या होती है कॉन्ट्रैक्शनरी पॉलिसी?
कॉन्ट्रैक्शनरी पॉलिसी (Contractionary Policy) यानी संकुचन नीति एक मौद्रिक उपाय है जो या तो सरकारी व्यय-विशेष रूप से घाटा व्यय को या फिर केंद्रीय बैंक द्वारा मौद्रिक विस्तार की दर में कमी को संदर्भित करता है। यह बढ़ती महंगाई दर या अन्य आर्थिक विषमताओं का मुकाबला करने के लिए डिजाइन किए गए और केंद्रीय बैंकों या सरकारी उपायों द्वारा सृजित माइक्रोइकनॉमिक टूल का एक प्रकार है। कॉन्ट्रैक्शनरी पॉलिसी, एक्सपैंशनरी पॉलिसी (विस्तारवादी नीति) के बिल्कुल विपरीत है। कॉन्ट्रैक्शनरी पॉलिसी का लक्ष्य अर्थव्यवस्था में धन के प्रवाह को सीमित करने के द्वारा मौद्रिक विस्तार की दरों में कमी लाना है। कॉन्ट्रैक्शनरी पॉलिसी आम तौर पर अत्यधिक महंगाई दर के समय या ऐसी स्थिति, जब पूर्व विस्तारवादी नीतियों के कारण उत्पन्न बढ़ी हुई अटकलबाजियों और पूंजी निवेश की अवधि रही हो, के दौरान जारी की जाती हैं।

कॉन्ट्रैक्शनरी पॉलिसी की मुख्य बातें
कॉन्ट्रैक्शनरी पॉलिसी का उद्देश्य पूंजी बाजारों में संभावित विकृतियों को रोकना है। इन विकृतियों में विस्तारित धन आपूर्ति से उत्पन्न उच्च मुद्रास्फीति, अविवेकपूर्ण एसेट कीमतें या क्राउडिंग-आउट प्रभाव, जहां ब्याज दरों में बढ़ोतरी से निजी निवेश व्यय में कमी आती है जिससे यह कुल निवेश व्यय की आरंभिक वृद्धि को कम कर देता है, शामिल हैं।

फिस्कल पॉलिसी के रूप में कॉन्ट्रैक्शनरी पॉलिसी
सरकारें करों को बढ़ाने या सरकारी व्यय घटाने के द्वारा कॉन्ट्रैक्शनरी फिस्कल पॉलिसी में संलग्न होती हैं। अपने सर्वाधिक अपरिष्कृत रूप में, ये नीतियां सुस्त पड़ते गैरटिकाऊ उत्पादन या एसेट की कम होती कीमतों की उम्मीद के साथ निजी अर्थव्यवस्था से धन निकालती हैं। आधुनिक समय में अधिकांश कॉन्ट्रैक्शनरी फिस्कल पॉलिसी सरकारी व्ययों को घटाने (केवल लक्षित क्षेत्रों में) कॉल ऑप्शन को राइट करना के द्वारा पिछले राजकोषीय विस्तार को सामान्य करती हैं। कॉन्ट्रैक्शनरी पॉलिसी अक्सर केंद्रीय बैंकों की मौद्रिक नीति से जुड़ी होती है, जिससे कि वह ब्याज दरों में वृद्धि करने के जरिए पॉलिसी को लागू करने में सक्षम हो सके।

Options Trading: क्‍या होती है ऑप्‍शंस ट्रेडिंग? कैसे कमाते हैं इससे मुनाफा और क्‍या हो आपकी रणनीति

Options Trading: निश्चित ही ऑप्‍शंस ट्रेडिंग एक जोखिम का सौदा है. हालांकि, अगर आप बाजार के बारे में जानकारी रखते हैं और कुछ खास रणनीति बनाकर चलते हैं तो इससे मुनाफा अर्जित कर सकते हैं.

By: मनीश कुमार मिश्र | Updated at : 18 Oct 2022 03:40 PM (IST)

ऑप्‍शंस ट्रेडिंग ( Image Source : Getty )

डेरिवेटिव सेगमेंट (Derivative Segment) भारतीय बाजार के दैनिक कारोबार में 97% से अधिक का योगदान देता है, जिसमें ऑप्शंस एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनता है. निवेशकों के बीच बाजार की जागरूकता बढ़ने के साथ, ऑप्शंस ट्रेडिंग (Options Trading) जैसे डेरिवेटिव सेगमेंट (Derivative Segment) में रिटेल भागीदारी में उछाल आया है. इसकी मुख्‍य वजह उच्च संभावित रिटर्न और कम मार्जिन की आवश्यकता है. हालांकि, ऑप्शंस ट्रेडिंग में उच्च जोखिम शामिल है.

क्‍या है ऑप्‍शंस ट्रेडिंग?

Options Trading में निवेशक किसी शेयर की कीमत में संभावित गिरावट या तेजी पर दांव लगाते हैं. आपने कॉल और पुष ऑप्‍शंस सुना ही होगा. जो निवेशक किसी शेयर में तेजी का अनुमान लगाते हैं, वे कॉल ऑप्‍शंस (Call Options) खरीदते हैं और गिरावट का रुख देखने वाले निवेशक पुट ऑप्‍शंस (Put Options) में पैसे लगाते हैं. इसमें एक टर्म और इस्‍तेमाल किया जाता है स्‍ट्राइक रेट (Strike Rate). यह वह भाव होता है जहां आप किसी शेयर या इंडेक्‍स को भविष्‍य में जाता हुआ देखते हैं.

जानकारी के बिना ऑप्शंस ट्रेडिंग मौके का खेल है. ज्‍यादातर नए निवेशक ऑप्शंस में पैसा खो देते हैं. ऑप्शंस ट्रेडिंग में जाने से पहले कुछ बुनियादी कॉल ऑप्शन को राइट करना बातों से परिचित होना आवश्यक है. मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के हेड - इक्विटी स्ट्रैटेजी, ब्रोकिंग एंड डिस्ट्रीब्यूशन हेमांग कॉल ऑप्शन को राइट करना जानी ने ऑप्‍शंस ट्रेडिंग को लेकर कुछ दे रहे हैं जो आपके काम आ सकते हैं.

धन की आवश्यकता: ऑप्शंस की शेल्फ लाइफ बहुत कम होती है, ज्यादातर एक महीने की, इसलिए व्यक्ति को किसी भी समय पूरी राशि का उपयोग नहीं करना चाहिए. किसी विशेष व्यापार के लिए कुल पूंजी का लगभग 5-10% आवंटित करना उचित होगा.

ऑप्शन ट्रेड का मूल्यांकन करें: एक सामान्य नियम के रूप में, कारोबारियों को यह तय करना चाहिए कि वे कितना जोखिम उठाने को तैयार हैं यानी एक एग्जिट स्‍ट्रेटजी होनी चाहिए. व्यक्ति को अपसाइड एग्जिट पॉइंट और डाउनसाइड एग्जिट पॉइंट को पहले से चुनना होगा. एक योजना के साथ कारोबार करने से व्यापार के अधिक सफल पैटर्न स्थापित करने में मदद मिलती है और आपकी चिंताओं को अधिक नियंत्रण में रखता है.

जानकारी हासिल करें: व्यक्ति को ऑप्शंस और उनके अर्थों में आमतौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले कुछ जार्गन्स से परिचित होने का प्रयास करना चाहिए. यह न केवल ऑप्शन ट्रेडिंग से अधिकतम लाभ प्राप्त करने में मदद करेगा बल्कि सही रणनीति और बाजार के समय के बारे में भी निर्णय ले सकता है. जैसे-जैसे आप आगे बढ़ते हैं, सीखना संभव हो जाता है, जो एक ही समय में आपके ज्ञान और अनुभव दोनों को बढ़ाता है.

इलिक्विड स्टॉक में ट्रेडिंग से बचें: लिक्विडिटी बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह व्यक्ति को ट्रेड में अधिक आसानी से आने और जाने की अनुमति देता है. सबसे ज्यादा लिक्विड स्टॉक आमतौर पर उच्च मात्रा वाले होते हैं. कम कारोबार वाले स्टॉक अप्रत्याशित होते हैं और बेहद स्पेक्युलेटिव होते हैं, इसलिए यदि संभव हो तो इससे बचना चाहिए.

होल्डिंग पीरियड को परिभाषित करें: वक्‍त ऑप्शंस के मूल्य निर्धारण में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. प्रत्येक बीतता दिन आपके ऑप्शंस के मूल्य को कम करता है. इसलिए व्यक्ति को भी पोजीशन को समय पर कवर करने की आवश्यकता होती है, भले ही पोजीशन प्रॉफिट या लॉस में हो.
मुख्‍य बात यह जानना है कि कब प्रॉफिट लेना है और कब लॉस उठाना है. इनके अलावा, व्यक्ति को पोजीशन की अत्यधिक लेवरेज और एवरेजिंग से भी बचना चाहिए. स्टॉक ट्रेडिंग की तरह ही, ऑप्शंस ट्रेडिंग में ऑप्शंस खरीदना और बेचना शामिल है या तो कॉल करें या पुट करें.

ऑप्शंस बाइंग के लिए सीमित जोखिम के साथ एक छोटे वित्तीय निवेश की आवश्यकता होती है अर्थात भुगतान किए गए प्रीमियम तक, जबकि एक ऑप्शंस सेलर के रूप में, व्यक्ति बाजार का विपरीत दृष्टिकोण रखता है. ऑप्शंस को बेचते वक्त माना गया जोखिम मतलब नुकसान मूल निवेश से अधिक हो सकता है यदि अंतर्निहित स्टॉक (Underlying Stocks) की कीमत काफी गिरती है या शून्य हो जाती है.

ऑप्शंस खरीदते या बेचते समय कुछ नियमों का पालन करना चाहिए:

  • डीप-आउट-ऑफ-द-मनी (OTM) विकल्प केवल इसलिए न खरीदें क्योंकि यह सस्ता है.
  • समय ऑप्शन के खरीदार के खिलाफ और ऑप्शन के विक्रेता के पक्ष कॉल ऑप्शन को राइट करना में काम करता है. इसलिए समाप्ति के करीब ऑप्शन खरीदना बहुत अच्छा विचार नहीं है.
  • अस्थिरता ऑप्शन के मूल्य को निर्धारित करने के लिए आवश्यक कारकों में से एक है. इसलिए आम तौर पर यह सलाह दी जाती है कि जब बाजार में अस्थिरता बढ़ने की उम्मीद हो तो ऑप्शंस खरीदें और जब अस्थिरता कम होने की उम्मीद हो तो ऑप्शंस बेचें.
  • प्रमुख घटनाओं या प्रमुख भू-राजनीतिक जोखिमों से पहले ऑप्शंस बेचने के बजाय ऑप्शंस खरीदना हमेशा बेहतर होता है.

नियमित अंतराल पर प्रॉफिट की बुकिंग करते रहें या प्रॉफिट का ट्रेलिंग स्टॉप-लॉस रखें. अगर सही तरीके से अभ्यास किया जाए तो ऑप्शंस ट्रेडिंग से कई गुना रिटर्न्स प्राप्‍त किया जा सकता है.

(डिस्‍क्‍लेमर : प्रकाशित विचार एक्‍सपर्ट के निजी हैं. शेयर बाजार में निवेश करने से पहले अपने निवेश सलाहकार की राय अवश्‍य लें.)

Published at : 18 Oct 2022 11:42 AM (IST) Tags: Options Trading Derivatives Call Option Put Option Trading in Options Stop loss हिंदी समाचार, ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें abp News पर। सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट एबीपी न्यूज़ पर पढ़ें बॉलीवुड, खेल जगत, कोरोना Vaccine से जुड़ी ख़बरें। For more related stories, follow: Business News in Hindi

रेटिंग: 4.72
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 468