पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों ने आम आदमी को परेशान कर रखा है.

कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट

नई दिल्ली : अमेरिकी बैंक कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट फेडरल रिजर्व के बाद बैंक ऑफ इंग्लैंड और स्विस बैंक के ब्याज दरों में बढ़ोतरी से कच्चे तेल के कीमतों में भारी गिरावट आई है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में ब्रेंट कूट घटकर 86.15 डॉलर प्रति बैरल और यूएस वेस्ट टेक्सस इंटरमीडिएट (डब्ल्यूटीआई) क्रूड भी 78.74 डॉलर प्रति बैरल के स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट आ चुका है। कच्चे तेल के दाम में गिरावट के बावजूद देश के चार महानगरों में पेट्रोल-डीजल के दाम स्थिर हैं।

इंडियन ऑयल की वेबसाइट के मुताबिक शनिवार को दिल्ली में पेट्रोल 96.72 रुपये और डीजल 89.62 रुपये प्रति लीटर है। मुंबई में पेट्रोल 106.31 रुपये प्रति लीटर और डीजल का भाव 94.27 रुपये प्रति लीटर है। कोलकाता में पेट्रोल 106.03 रुपये प्रति लीटर और डीजल 92.76 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है। इसी तरह चेन्नई में पेट्रोल 102.63 रुपये प्रति लीटर और डीजल 94.24 रुपये प्रति लीटर पर मिल रहा है।

उल्लेखनीय है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में ब्रेंट क्रूड की कीमत 4.76 फीसदी यानी 4.31 डॉलर की गिरावट के साथ 86.15 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया है, जबकि यूएस वेस्ट टेक्सस इंटरमीडिएट (डब्ल्यूटीआई) क्रूड ऑयल भी 5.69 फीसदी यानी 4.75 डॉलर की भारी गिरावट के साथ 78.74 डॉलर प्रति बैरल पर है। इस साल कच्चा तेल 139 डॉलर प्रति बैरल के स्तर पर पहुंचने के बाद फिलहाल 40 फीसदी तक टूट चुका है। इसके बावजूद सार्वजनिक क्षेत्र की तेल विपणन कंपनियों ने घरेलू बाजार में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में 22 मई के बाद से कोई बदलाव नहीं किया है।

अधिक बिज़नेस की खबरें

Gold-Silver Price : सोने-चांदी की कीमत में उछाल, र‍िकॉर्ड लेवल पर पहुंचा गोल्ड का भाव

Gold-Silver Price : सोने-चांदी की कीमत में उछाल, र‍िकॉर्ड लेवल पर पहुंचा गोल्ड का भाव ..

सप्ताह के पहले कारोबारी दिन में सोने और चांदी की कीमत उछाल देखने को मिला है. पिछले . .

सरकार ने किया साफ़, कहा-देश के लिए खाद्यान्न का पर्याप्त स्टॉक उपलब्ध,

सरकार ने किया साफ़, कहा-देश के लिए खाद्यान्न का पर्याप्त स्टॉक उपलब्ध, ..

देश में चावल और गेहूं के आटा की बढ़ती कीमतों के बीच सरकार ने साफ किया है . .

23 जनवरी से होंडा के वाहनों पर बढ़ेंगे 30 हजार रुपये तक दाम

23 जनवरी से होंडा के वाहनों पर बढ़ेंगे 30 हजार रुपये तक दाम ..

हुंडई, मारुति के बाद जापान की कार निर्माता कंपनी होंडा मोटर लिमिटेड ने अपने सभी मॉडलों के . .

Petrol-Diesel Price: ईंधन की बढ़ी हुई कीमतों से कब मिलेगी राहत, जानें कैसे तय होते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम

शुक्रवार को दरों में गिरावट से यह उम्मीद बन रही थी कि पेट्रोल पंपों पर पेट्रोल और डीजल के दाम घटेंगे, लेकिन खुदरा कीमतें ऐसे तय नहीं होतीं.

Petrol-Diesel Price: ईंधन की बढ़ी हुई कीमतों से कब मिलेगी राहत, जानें कैसे तय होते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम

पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों ने आम आदमी को परेशान कर रखा है.

Petrol-Diesel Price: पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों ने आम आदमी को परेशान कर रखा है. बीते कुछ दिनों में अंतर्राष्ट्रीय बाजार में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में गिरावट देखी गई, जिसके चलते यह अनुमान लगाया जा रहा है कि जल्द ही लोगों को घरेलु बाजार में भी ईंधन की बढ़ती कीमतों से राहत मिल सकती है. लेकिन जानकारों के मुताबिक, फिलहाल पेट्रोल-डीजल के दाम कम नहीं होने वाले. पेट्रोल और डीजल की बढ़ी हुई कीमतों से राहत तभी मिलेगी, जब अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तेल की कीमतों में मौजूदा गिरावट कुछ और दिनों तक बनी रहेगी. सार्वजनिक क्षेत्र की पेट्रोलियम कंपनियां इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (IOC), भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (BPCL) और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन (HPCL) दैनिक आधार पर पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बदलाव करती हैं. लेकिन यह बदलाव पिछले 15 दिनों में एवरेज बेंचमार्क इंटरनेशनल प्राइस के हिसाब से होता है. इसलिए रविवार की कीमत पिछले 15 दिन के औसत से तय होगी.

ऐसे तय होते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि घरेलू स्तर पर खुदरा कीमतें 15 दिन के ‘रोलिंग’ एवरेज के आधार पर तय की जाती हैं. ऐसे में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कीमतों में लगातार गिरावट के बाद ही यहां दाम घटेंगे. ग्लोबल बेंचमार्क ब्रेंट कच्चे तेल की कीमतें नवंबर में (25 नवंबर तक) मोटे तौर पर लगभग 80 से 82 डॉलर प्रति बैरल तक रही हैं. बीते शुक्रवार को कच्चे तेल का दाम करीब चार डॉलर प्रति बैरल और घट गया. उसके बाद कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट ब्रेंट वायदा में बिकवाली से लंदन के आईसीई में इसकी कीमत छह डॉलर और घटकर 72.91 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुई. सूत्रों के मुताबिक कोविड के नए वैरिएंट Omicron की वजह से ऐसा हुआ है.

भारत जोड़ो यात्रा पर बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा का हमला, कहा- कांग्रेस देश को सिर्फ तोड़ सकती है, जोड़ नहीं सकती

Gujarat High Court: गुजरात हाईकोर्ट के वकीलों ने किया काम बंद करने का एलान, जस्टिस निखिल करियल के तबादले का कर रहे हैं विरोध

अभी नहीं मिलेगी राहत

एक सूत्र ने कहा, ‘‘शुक्रवार को दरों में गिरावट से स्वाभाविक रूप से यह उम्मीद बन रही थी कि पेट्रोल पंपों पर पेट्रोल और डीजल के दाम घटेंगे, लेकिन खुदरा कीमतें ऐसे तय नहीं होतीं. चूंकि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतें नवंबर के अधिकांश दिनों में सीमित दायरे में रही हैं, ऐसे में शुक्रवार को आई गिरावट से औसत मूल्य पर कोई खास प्रभाव नहीं पड़ेगा. सूत्र ने आगे कहा, ‘‘अंतरराष्ट्रीय कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट स्तर पर जब कीमतों में गिरावट कुछ और दिन बनी रहेगी, तभी यहां पेट्रोल और डीजल के दाम नीचे आएंगे.’’ हाल में अमेरिका, जापान और दक्षिण कोरिया सहित भारत जैसे प्रमुख तेल उपभोक्ता देशों ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों को कम करने के संयुक्त प्रयास के तहत अपने रणनीतिक भंडार से कच्चे तेल को जारी करने की घोषणा की थी. लेकिन इन घोषणाओं का भी अंतरराष्ट्रीय कीमतों पर ज्यादा असर नहीं पड़ा है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

Petrol Price: कच्चा तेल सस्ता होने के बाद पेट्रोल की कीमत 50 दिनों में सिर्फ 65 पैसे घटी, महंगा होने पर तुरंत बढ़ा दिए गए दाम

जुलाई से अगस्त महीने के बीच अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमत में करीब 4 डॉलर प्रति डॉलर की कटौती हुई थी. लेकिन देश में तेल कंपनियों में 50 दिनों में पेट्रोल के दामों में केवल 65 पैसे प्रति लीटर की कटौती की.

Petrol Price: कच्चा तेल सस्ता होने के बाद पेट्रोल की कीमत 50 दिनों में सिर्फ 65 पैसे घटी, महंगा होने पर तुरंत बढ़ा दिए गए दाम

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतें बढ़ने से घरेलू बाजार में पेट्रोल-डीजल महंगा होता है. कच्चे तेल की कीमतों में एक बार फिर से आ लग गई है. कुछ घंटों में ब्रेंट क्रूड के दाम बढ़कर फिर से 80 डॉलर प्रति बैरल के नज़दीक पहुंच गए. इसी के बाद घरेलू बाजार में देश की ऑयल मार्केटिंग कंपनियों ने पेट्रोल और डीज़ल के दाम बढ़ाने का ऐलान किया. दिल्ली में पेट्रोल की कीमत तीन दिनों में 45 पैसे प्रति लीटर बढ़ी. जबकि, डीजल के दाम में सात दिनों में 1 रुपये 25 पैसे का इजाफा हुआ है. कच्चे तेल की कीमत का पेट्रोल-डीजल पर सीधा असर होता है.

तीन दिनों के अंदर पेट्रोल 45 पैसे प्रति लीटर महंगा हुआ

लेकिन एक बात ध्यान देने वाली है कि जुलाई से अगस्त महीने के बीच अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमत में करीब 4 डॉलर प्रति डॉलर की कटौती हुई थी. लेकिन देश में तेल कंपनियों में 50 दिनों में पेट्रोल के दामों में केवल 65 पैसे प्रति लीटर की कटौती की. हालांकि, अब जब अंतरराष्ट्रीस स्तर पर कच्चे तेल की कीमत में इजाफा हो रहा है, तो तीन दिनों के अंदर पेट्रोल 45 पैसे प्रति लीटर महंगा हो गया. यानी जब कटौती हुई, तो इसका लाभ पूरी तरह ग्राहकों तक नहीं पहुंचाया गया. और जब अब तेल की कीमत बढ़ रही है, तो तुरंत ग्राहकों के लिए पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ाई जा रही हैं.

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम घटने के बाद, 17 जुलाई से 5 सितंबर के बीच देश में चार बार पेट्रोल की कीमतों में कटौती की गई. लेकिन इसके बावजूद, देश के कई राज्यों में पेट्रोल का भाव 100 रुपये प्रति लीटर से कम नहीं हुआ. इस समय देश में पेट्रोल की सबसे ज्यादा कीमत मध्यप्रदेश के सिवनी में है, जहां पेट्रोल को खरीदने के लिए 113.28 रुपये का भुगतान करना होता है. वहीं, राजस्थान के श्रीगंगानगर में पेट्रोल खरीदने के लिए आपको 113.01 रुपये चुकाने होंगे.

कच्चे तेल का उत्पादन घटाने की तैयारी

न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, ओपेक+ की बैठक 4 अक्टूबर यानी सोमवार को होगी. इस बैठक से पहले कई तरह के कयास लगाए जा रहे है. माना जा रहा है कि बैठक में कच्चे तेल का उत्पादन घटाने की तैयारी है. हालांकि, अभी तक कोई फैसला नहीं हुआ है. लेकिन इन्हीं खबरों के चलते कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट कच्चे तेल की कीमतों में तेजी लौटी है. आने वाले दिनों में ये तेजी बरकरार रह सकती है.

आपको बता दें कि भारत में डीजल और पेट्रोल की कीमतें तय करने का काम तेल कंपनियां करती हैं. कीमत तय करने में विदेशी बाजार में क्रूड ऑयल के दामों का बड़ा रोल होता कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट है. तेल कंपनियां, क्रूड ऑयल की 15 दिनों की औसत कीमत और डॉलर के मूल्य के आधार पर पेट्रोल-डीजल की कीमतें तय करती हैं.

Petrol-Diesel Price Today: कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट का असर, जानिए पेट्रोल और डीजल का नया रेट

Petrol Diesel Price Today: कच्चे तेल की कीमतों में हाल के दिनों में गिरावट का रुख जारी है। कच्चे तेल की कीमतों में इस गिरावट के कारण हर किसी को पेट्रोल और डीजल की कीमतों में और कमी की उम्मीद है।

Prashant Dixit

Petrol and Diesel Price Today

Petrol and Diesel Price Today (image credit social media)

Petrol and Diesel Price Today: कच्चे तेल की कीमतों में हाल के दिनों में गिरावट का रुख जारी है। कच्चे तेल की कीमतों में इस गिरावट के कारण हर किसी को पेट्रोल और डीजल की कीमतों में और कमी की उम्मीद है। वैसे शुक्रवार को जारी किए गए नए रेट के मुताबिक पेट्रोल और डीजल की कीमतें यथावत बनी हुई हैं। दोनों की कीमतों में न तो कोई बढ़ोतरी की गई है और न तो कोई गिरावट दर्ज की गई है। तेल कंपनियों का यह रुख पिछले डेढ़ महीने से अधिक समय से बना हुआ है। तेल की कीमतों में पहले प्राय: कुछ न कुछ बढ़ोतरी होती रहती थी मगर इधर काफी दिनों से स्थिरता बनी रहने के कारण आम आदमी ने राहत की सांस ली है।

कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट

अब सबकी निगाहें इस बात पर लगी हुई हैं कि कच्चे तेल की कीमतों में लगातार गिरावट का पेट्रोल और डीजल की कीमतों पर क्या असर पड़ता है। हाल के दिनों में कच्चे तेल की कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट कीमत में गिरावट दर्ज की गई है और बुधवार को यह सौ डॉलर प्रति बैरल से भी नीचे आ गया। बुधवार को कच्चा तेल पिछले तीन महीने के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया था और गुरुवार को इसकी कीमत में थोड़ी तेजी आई।

संभावित वैश्विक मंदी की आशंका के बीच तेल की मांग को लेकर बढ़ती चिंता को इसका प्रमुख कारण माना जा रहा है। बुधवार को ब्रेंट क्रूड 99.98 डॉलर प्रति बैरल और डब्ल्यूटीवाई 97.91 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया। इससे पहले मंगलवार को भी कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट दर्ज की गई थी। गुरुवार को कच्चे तेल की कीमतों में मामूली तेजी आई। गुरुवार को ब्रेंट क्रूड 104,4 डॉलर प्रति बैरल और डब्ल्यूटीआई 102.5 डॉलर प्रति बैरल पर था।

पूर्व का रेट ही अब तक बरकरार

कच्चे तेल की कीमतों में लगातार गिरावट के कारण पेट्रोल और डीजल के सस्ता होने की उम्मीद जताई जा रही है। हालांकि शुक्रवार को जारी किया जाए नए रेट के मुताबिक दोनों की कीमतों में कोई कमी नहीं आई है।

तेल कंपनियों की ओर से हर रोज सुबह छह बजे पेट्रोल और डीजल का नया रेट जारी किया जाता है और शुक्रवार को तेल कंपनियों की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक पेट्रोल और कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट डीजल दोनों पूर्व के रेट पर ही उपलब्ध होगा।

उपभोक्ताओं को कीमत और घटने की आस

केंद्र सरकार की ओर से गत 21 मई को पेट्रोल कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट और डीजल दोनों पर एक्साइज ड्यूटी घटाई गई थी। केंद्र सरकार के इस फैसले के बाद कई राज्य सरकारों ने भी वैट की दरों में कमी की थी। इस कारण पेट्रोल और डीजल दोनों की कीमतों में गिरावट दर्ज की गई थी। 21 मई को किए गए इस फैसले के बाद से ही पेट्रोल और डीजल की कीमतों में स्थिरता का दौर बना हुआ है।

उस समय कच्चे तेल की कीमतें ज्यादा थीं और अब कच्चे तेल की कीमतों में काफी कमी आई है। ऐसे में उपभोक्ताओं को तेल कंपनियों से और मेहरबानी की उम्मीद है। उपभोक्ताओं का कहना है कि कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट के बाद पेट्रोल और डीजल की कीमतों में और कमी की जानी चाहिए। अब यह देखने वाली बात होगी कि तेल कंपनियां पेट्रोल और डीजल की कीमतों में और कमी लाने का बड़ा फैसला कब करती हैं।

Petrol Diesel Rate :कच्चे तेल की कीमतों में हुई भारी गिरावट, इन राज्यों में बढ़ी पेट्रोल की कीमत,देखे ताज़ा रेट

Petrol Diesel Rate :तेल की कीमतों में गिरावट! सस्ते पेट्रोल-डीजल मिलेगा, चेक करें मौजूदा दाम 17 December 2022 कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट तक डीजल की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल की कीमत में लगातार बढ़ोतरी के बाद अब इसकी कीमत घट रही है. डब्ल्यूटीआई कच्चे तेल और ब्रेंट कच्चे तेल की कीमतों में आज गिरावट आई।

गिरावट के बाद डब्ल्यूटीआई कच्चा तेल 88.61 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा है। इस बीच, ब्रेंट क्रूड 96.62 डॉलर प्रति बैरल पर है। इस साल की मंदी के बाद सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या आज पेट्रोल और डीजल की कीमतों में गिरावट आई या नहीं।

Petrol Diesel Rate

शुक्रवार को देश की प्रमुख सरकारी तेल कंपनियों जैसे इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम ने अपने पेट्रोल और डीजल के दाम जारी किए। तदनुसार, पेट्रोल और डीजल की कीमत में इस तिथि, यानी 28/10/2022 तक कोई बदलाव नहीं हुआ था। गणतंत्र की मेट्रो में पेट्रोल-डीजल के दाम पुराने रेट पर ही बने हुए हैं.

22 मई के बाद भी कई शहरों में पेट्रोल-डीजल के दाम अपरिवर्तित रहे
देश भर कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट में पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों को नियंत्रित करने के लिए केंद्र सरकार ने 21 मई को पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क में कमी की। उसके बाद पेट्रोल पर 8 रुपये और डीजल पर 6 रुपये की कटौती की गई। तब से देश पेट्रोल और डीजल की कीमत पर कायम है। पेट्रोल और डीजल की कीमतों में राज्य के हिसाब से थोड़ा बदलाव आया है, लेकिन देश के महानगरों में कीमतें स्थिर बनी हुई हैं।

पेट्रोल और डीजल की कीमत मीटर में

दिल्ली – पेट्रोल 96.72 रुपये और डीजल 89.62 रुपये प्रति लीटर
मुंबई – पेट्रोल 106.31 रुपये और डीजल 94.27 रुपये प्रति लीटर
चेन्नई – पेट्रोल 102.63 रुपये और डीजल 94.24 रुपये प्रति लीटर
कोलकाता – पेट्रोल 106.03 रुपये और डीजल 92.76 रुपये प्रति लीटर
अन्य प्रमुख शहरों में पेट्रोल और डीजल की कीमतें-

लखनऊ – पेट्रोल 96.57 रुपये और डीजल 89.76 रुपये प्रति लीटर
नोएडा- पेट्रोल 96.57 रुपये और डीजल 89.96 रुपये प्रति लीटर
हैदराबाद – पेट्रोल 109.66 रुपये और डीजल 97.82 रुपये प्रति लीटर
भुवनेश्वर – पेट्रोल 103.19 रुपये और डीजल 94.76 रुपये प्रति लीटर
जयपुर – पेट्रोल 108.48 रुपये और डीजल 93.72 रुपये प्रति लीटर
चंडीगढ़ – पेट्रोल 96.20 रुपये और डीजल 84.26 रुपये प्रति लीटर
तिरुवनंतपुरम – पेट्रोल 107.71 रुपये और डीजल 96.52 रुपये प्रति लीटर
पोर्ट ब्लेयर – पेट्रोल 84.10 रुपये और डीजल 79.74 रुपये प्रति लीटर
गुरुग्राम – 97.18 रुपये और डीजल 90.05 रुपये प्रति लीटर

Petrol Diesel Rate :

ऐसे चेक करें अपने शहर में पेट्रोल-डीजल के दाम-
यदि आप बीपीसीएल पेट्रोल-डीजल ग्राहक मूल्य की जांच करना चाहते हैं, तो आरएसपी टाइप करें और 9223112222 पर भेजें। इसके विपरीत, इंडियन ऑयल (आईओसी) के ग्राहक आरएसपी टाइप करते हैं और 9224992249 एचपीसीएल ग्राहकों को भेजते हैं। 9222201122. फिर आपको एक संदेश के माध्यम से पेट्रोल और डीजल की आज की नवीनतम कीमत प्राप्त होगी।

रेटिंग: 4.34
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 733